Tum bahot acche ho ek pyar bhari kahani thand ke mausam me

Tum bahot acche ho ek pyar bhari kahani thand ke mausam me
Tags:
Share this Post

तुम बहुत अच्छे हो…
.
ठंड अपने पूरे यौवन पर थी। अभी रात के आठ बजे थे, लेकिन ऐसा लगता था कि आधी रात हो गई है। मैं अम्बाला छावनी बस स्टैंड पर शहर आने के लिए लोकल बस की इंतज़ार कर रहा था। जहां मैं खड़ा था उससे कुछ ही दूरी पर दो-तीन ऑटो रिक्शा वाले एवं टैक्सी वाले खड़े थे। मुझे वहां खड़े हुए लगभग बीस-पच्चीस मिनट हो चुके थे, लेकिन बस थी कि आ ही नहीं रही थी। खड़े-खड़े ठंड के कारण मेरी देह अकड़ने लगी थी।

Tum bahot acche ho ek pyar bhari kahani thand ke mausam me
ऑटो-रिक्शा वाले से बात की तो उसने शहर जाने के लिए चालीस रुपये मांगे थे। बस में जाने से चार रुपये और ऑटो-रिक्शा में जाने से चालीस रुपये। घर जल्दी पहुंच कर भी क्या करना है? मैंने मन को समझाया। ख़ामख़ाह में छत्तीस रुपये की नक़द चपत लगेगी। जबकि इन छत्तीस रुपये से मुझ जैसे नौकरीपेशा युक्त व्यक्ति की बहुत-सी ज़रूरतें पूरी हो सकती थीं। बहुत-सी समस्याएं सुलझ सकती थीं।
मैं इसी उधेड़बुन में था कि जाऊं या नहीं, तभी दूर से एक बस की ‘हैड-लाइट’ नज़र आई थी। बस नज़दीक आई। मेरी नज़रें गिद्ध समान बस से चिपकी थी। बस देहरादून से आई थी और चंडीगढ़ जानी थी। बस स्टैंड पर बस रुकी। उतरने वाली तीन-चार सवारियां ही थीं। उन सवारियों में एक युवा लड़की भी थी। कंधे पर सामान का एक बैग झूलता हुआ। उतरने वाली अन्य सवारियां रिक्शा करके जा चुकी थीं। वह युवा लड़की भी किसी अन्य वाहन की तलाश में थी।
तभी वह लड़की ऑटो-रिक्शा वाले के पास गई, बोली, “भैया! अम्बाला शहर के लिए कोई बस…..?” वाक्य उसने अधूरा छोड़ दिया था।
ऑटो-रिक्शा वाले ने उसे ऊपर से नीचे तक निहारने के बाद कहा, “इस समय कोई बस नहीं मिलेगी। ऑटो रिक्शा में चलना है तो…..?”
“कितने पैसे लोगे? उसने पूछा।”
“40 रुपये।”
“यहां से कितनी दूर है?” उसने फिर पूछा।
“यही कोई 10-11 किलोमीटर!”
वह चुप हो गई। सोचती रही। ‘चार्जेज़’ बहुत ज़्यादा हैं। दूसरी वह अकेली…..? कहीं रास्ते में…..? वह सिहर उठी थी।
उसके चेहरे पर घबराहट और भय के मिले-जुले भाव थे।
तभी वहां दो युवक आ गए। शक्ल से वे ‘शरीफ़’ नहीं लग रहे थे। पान चबाते हुए उनमें से एक ने उस लड़की को देख कर मुस्कुरा कर पूछा, “कहां जाओगी?”
“मुझे शहर जाना है।” स्वर में हल्का-सा कंपन था। पैर लरज़ रहे थे।
“हम छोड़ देंगे।” दाढ़ी वाला दूसरा युवक मुस्कुराया आंखों में अजीब-सी चमक लिए हुए।
ठंड और भी बढ़ गई थी। लेकिन उस युवा लड़की की ‘पेशानी’ पर पसीने की बूंदे झिलमिलाने लगी थीं। आंखों में भय के साथ-साथ नमी भी झलकने लगी थी।
मैं उनके बीच ‘बिन बादल बरसात’ की तरह टपक पड़ा।
“सुनिये!” मैं लड़की का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करते हुए धीरे से बड़बड़ाया।
सवालिया निगाहें उस युवा लड़की के साथ-साथ उन दोनों युवकों व पास ही खड़े ऑटो-रिक्शा चालक की मुझ पर उठी थीं।
“आप शहर जा रही हैं न?” जानते-बूझते हुए भी मैंने एक प्रश्न किया था।
उस लड़की ने गर्दन ‘हां’ में हिलाई। चेहरे पर अब भी ख़ौफ़ था।
“मुझे भी शहर जाना है। अगर आप मेरे साथ चलना चाहो तो…..?” न जाने कैसे ये शब्द मैं उससे कह गया था? मन में डर भी था कि कहीं वह लड़की मुझे ग़लत न समझ ले। डर उन ‘तीनों’ से भी था जो वहां खड़े थे।
मुझे उस युवा लड़की से बातें करते देख वे तीनों वहां से सटके थे। मैंने भी राहत की सांस ली।
मेरे प्रश्न के उत्तर में वह मेरे पास खिसक आई। उसका पास आना उसकी स्वीकृति का सूचक था कि उसे मुझ पर विश्वास था। बस अभी भी दूर-दूर तक नज़र नहीं आ रही थी।
“आप कहां से आ रही हैं?” मैंने पूछा।
“मेरठ से!” संक्षिप्त-सा उसने उत्तर दिया।
“शहर कहां जाना है?” मैंने फिर प्रश्न किया।
“मैं ‘मेडिकल होस्टल’ में रहती हूं।” वह बोली।
कुछ देर मैं चुप रहा। क्या बात करूं यही सोचता रहा। फिर मैंने कहा, “आप को दिन में आना चाहिए था या फिर किसी को साथ लेकर?”
“वैसे पापा ने आना था, मगर उनकी तबीयत अचानक ख़राब हो गई।” वह मजबूरी बताते हुए बोली।
“तो किसी और को साथ….. मतलब भाई…..?”
“घर में छोटा भाई व छोटी बहन ही है। इसीलिए…..? फिर भी मैं समय से ही चली थी। लेकिन सहारनपुर में बस स्टैंड पर चालकों ने पहिया जाम कर दिया था। शायद किसी पैसेंजर से झगड़ा हो गया था। अन्यथा मैं सायं को ही यहां पहुंच जाती।” उसने अपनी बेबसी व मजबूरी झलकाई थी।
“बस तो आ नहीं रही, क्या आप मेरे साथ ऑटो-रिक्शा में चलना पसंद करोगी? किराया आधा-आधा कर लेंगे।” मैंने व्यावहारिक बनने की कोशिश की।
इससे पूर्व कि वह कोई जवाब देती, वही दोनों युवक एक मारुति में नज़र आये। उनमें से एक उस लड़की को देख कर चिल्लाया, “अम्बाला शहर…… अम्बाला शहर।”
मेरा दिल तेज़ी से धड़कने लगा था और शायद यही हाल उसका भी था। उसकी हालत देख कर अंदाज़ा लगाया जा सकता था कि वह किस क़दर भयभीत हो उठी थी। मैं कोई फ़िल्मी हीरो नहीं था कि उन दोनों का मुक़ाबला कर सकता। पर साथ ही मुझे साथ खड़ी लड़की का ख़्याल आया। आज निस्संदेह इस लड़की के सितारे गर्दिश में हैं। इसके साथ आज कुछ भी हो सकता है। अगर मैं न होता तो शायद यह उनके साथ चली जाती? और फिर…..? मैं कल्पना-मात्र से ही सिहर उठा।
तभी बस आती नज़र आई। “लगता है बस आ रही है!” मैंने उस युवा लड़की से कहा। नज़रें, आ रही बस पर टिकी थीं। बस आकर रुकी थी। मैं बस में चढ़ा। मेरे पीछे वह भी चढ़ी थी। मैंने दो टिकट शहर की ली। उसने टिकट के पैसे देने चाहे थे। मैंने मना कर दिया। अजनबियत की पारदर्शी दीवार हम दोनों के बीच गिर चुकी थी।
हम दोनों साथ-साथ बस में बैठे थे। मैं उससे इस क़दर हट कर बैठा था, मानों मुझे या उसे छूत की बीमारी हो या फिर उसके कोमल मन पर इस धारणा को पक्की करने की ललक में था कि मैं कोई ग़लत युवक नहीं हूं। मैं ऐसा क्यों कर रहा था, यह मेरी समझ से बाहर था। क्या मैं उसकी ओर आकर्षित हो रहा हूं? मेरे पास इस प्रश्न का उत्तर नहीं था।
“आप क्या करते हैं?” उसने अचानक मुझ से सवाल किया।
“मैं…..?” मैं उसकी ओर देखते हुए चौंका, बोला, “सरकारी नौकरी में हूं….. साथ ही लेखन से जुड़ा हूं।” बेवजह मैंने अपने लेखन की बात कही। शायद उसे प्रभावित करने के लिए।
“किस नाम से?” उसने खिड़की से बाहर झिलमिलाती रौशनियों की ओर देखते हुए पूछा।
“दीपांकर नाम से। वैसे मेरा नाम भी ‘दीपांकर’ है।” मैं सोच रहा था कि नाम सुन कर वह कहेगी, “हां! मैंने इस नाम को पढ़ा है, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। मैं कोई बड़ा लेखक नहीं था उसकी नज़र में।”
“वह ख़ामोश हो गई थी। मैंने कनखियों से उसकी तरफ़ देखा। वह सुन्दर थी- बेहद सुन्दर। उसकी सादगी दिल में उतर जाने वाली थी, सीधे ही। एक सुकून पहुंचाने वाली।”
“आप मेडिकल होस्टल में…..?”
मेरी बात का आशय समझ वह बोली, “जी! मैं नर्स की ‘ट्रेनिंग’ ले रही हूं।”
तब तक हमारी मंज़िल तक बस पहुंच चुकी थी। मैंने उससे धीमे स्वर में कहा, “आओ! दरवाज़े के पास चलें।”
हम दोनों बस से उतरे थे। वहां से मेडिकल होस्टल का पैदल रास्ता 5-7 मिनट का था। इस वक़्त वहां गहन अंधेरा फैला था।
“कहो तो ‘तुम्हें’ मेडिकल होस्टल तक छोड़ आऊं?” मैंने उससे पूछा।
“अगर आपको तकलीफ़ न हो तो…..?” उसने वाक्य अधूरा छोड़ कर मेरी तरफ़ देखा।
“नहीं….. नहीं, तकलीफ़ कैसी? मैं आपको छोड़ देता हूं।” मैंने कलाई की ओर बंधी घड़ी की ओर देखते हुए कहा।
होस्टल तक का सफ़र हमने चुपचाप पैदल पार किया। होस्टल पहुंच कर वॉर्डन से सामना हुआ। वॉर्डन ने कुछेक प्रश्न मुझसे पूछे और कुछ उससे।
वॉर्डन के सामने ही उसने मुझसे मेरा पता पूछा था। मैंने उसे पता लिख कर दिया।
वॉर्डन ने मुझे घूरा था, बोली, “आप इसे पत्र लिखेंगे?”
मैं चुप रहा। वॉर्डन की ओर देखते हुए उसके कहने का मतलब समझने की कोशिश करता रहा।
“देखिए! आप पत्र सोच-समझ कर डालना।”
“मतलब?” मैंने पूछा।
“यहां पत्र खोले जाते हैं। कहीं ऐसा-वैसा पत्र…..?”
मैं मुस्कुराया था। फिर उस युवा लड़की की ओर देखा, फिर बोला, “आप मुझे ग़लत समझ रही हैं। पता इन्होंने मुझसे लिया है। मैं न तो इनका नाम जानता हूं, न ही पता। ये पत्र लिखना चाहें तो इनकी मर्ज़ी।”
इतना कह कर मैं चलने के लिए उठा। उस युवा लड़की की ओर देखा। कृतज्ञता के भाव उसके चेहरे पर फैले थे।
वह बाहर छोड़ने को आई थी। आंखों में नमी फैल गई थी उसकी। बोली, “आपका यह एहसान मैं ज़िन्दगी भर न भूल पाऊंगी।”
मैं कुछ नहीं बोला। वहां से चला आया। घर पहुंचता हूं। रात के लगभग दस बज रहे हैं। पत्नी मेरे इंतज़ार में खाने के लिए बैठी हुई थी।
“आज बहुत देर कर दी।” मेरी आंखों में प्यार से झांकते हुए पत्नी ने कहा।
पत्नी को सारा क़िस्सा सुनाता हूं। वह ख़ामोशी से टकटकी बांधे ग़ौर से मेरी बात सुनती रही।
क़िस्सा सुनाने के बाद पूछता हूं, “ऐसे क्या देख रही हो मुझे?” मन ही मन सोचता हूं कि पत्नी कहीं शक तो नहीं कर रही।
वह उठती है। मेरे समीप आकर मेरी नाक अपने दांए हाथ के अंगूठे व सांकेतिक उंगली से दबा कर चहकते हुए कहती है, “तुम….. तुम बहुत अच्छे हो।”
पत्नी की आंखों में छाया विश्वास मन को गुदगुदा गया। पत्नी को बांहों में भर कर धीमे से उसके कानों में गुनगुना उठता हूं, “और….. तुम….. भी तो…..!”

कहानी पसंद आयी तो हमारे फेसबुक और टवीटर पेज को लाइक और शेयर जरूर करें ?


? Facebook.com/cbrmixglobal

? Twitter.com/cbrmixglobal

Related posts:

Kaun hoon main full hindi story on Shri Guru Govind singh
Kadvi bahu ki kahani (Full hindi story of a woman)
Dusri Shaadi
Kue waali chudail ki kahani 20 saal pehle ki ghatna hindi me
Bhagwan shiv ne Shukracharya ko kyu nigal liya tha
Ek ladke ki kahani Full hindi story
Jhagda ho gaya bhai behan ki kahani hindi me Cbrmix.com
Beti bachao beti padhao full hindi story 2
Duniya ka sabse ameer viyakti hindi motivational story (Bill gates ki kahani)
Maa beta ki kahani - Bete ka janamdin
Himmat na haarein
बेटी नाराज हो गयीपापा जाने लगे जब ऑफिस best hindi story
Kashi me ek brahman ban gaya kasai full prachin hindi kahani
Use Naukar ki tarah na bulayen full hindi story
Upar wale kamre me jarur koi rehta hai hindi ghost story
Narayani ki Kahani Combined hospital Kanpur Cantt
Aaj dulhan ke lal jode me use uski saheliyon ne sajaya hoga
Mera Delhi ka darwana safar aur mama ne mujhe bachaya
एक बार बुद्धि और भाग्य में झगड़ा हुआ। बुद्धि ने कहा, मेरी शक्ति अधिक है
Papa ye Musalman hai na full hindi story
Ganwaar
Maa Baap ko kabhi mat bhulna emotional hindi story
Bhooto se mulakat hui Kanpur ki sacchi bhoot ki kahani
Ek bhai ne likhi rula dene wali kahani apni behan par
Rachna machine hai kya full hindi story
Maa ka pyar hindi story (maa ka pyar full hindi story)
Brindavan ki Chitiyan full hindi story
Jaisa karm karoge waise hi fal milega-hindi story
Muslim bhai Humayun aur hindu behan Karnawati ki prachin kahani
Us bacche ka apharan karke jeevadhari bana diya gaya
Agar Jism pe he marna ho to kisi se pyar mat karna hindi love story
Pair ka juuta kahan se aur kab aaya best full hindi story
भगवन पर विस्वास बनाये रखिये प्रेरक हिंदी कथा
Kauva aur Ullu ke beech dushmani ki kahani (motivational story)
Budhe Uncle aur aunty ki nok jhok full hindi love story
Dharti par ek pari bheji hai (full hindi story on maa)
Is bar main bola hi nahi bhootiya rasta ki darawani kahani
Kuch samay apno ke liye
Ek maa ne apna khun bech kar beti ka admission karaya Hindi story
Akhir chori hui kaise (high suspense full hindi story)
Ab se tum mujhe Mam nahi Didi hi bolna bhai behan kahani
Sirf wo hi sarvshaktimaan hai ( parmatma ki kahani hindi story)
Wo kaun thi ek sacchi bhoot pret ki kahani
Pandiji ka rahasmaiyai chhata hindi horror story (Full)
Main samshan ghat me behosh ho gaya tha hindi horror story
Kya tumne kabhi apne maa ke haaton ko dekha hai Praveen
Insaaf Mangti Atma-kanpur me 1982 ki sacchi ghatna 
Himmat - full hindi (motivational) story
Dusre Ladke se shadi full hindi story
Kanha abhi so rahe hain (hindi spritural kahani)
14 saal ke bacche ko hua apni classmate se pyar (hindi love story)
नालायक बेटा जो अपने पापा का बहुत ख्याल रखता था
Bhudape ka sahara
Parmeshwar ya jeewan sathi full hindi story
Bhai behan ne langhi riston ki maryada karne lage ek dusre se pyar
Chota baccha full hindi sad story (hindi sad story)
Rahul karta tha apni behan ko tang bhai behani ki kahani
Kamini ke upar usne kia vashikaran aur phir
Daadi maa lassi piyogi kya hindi story of a woman
Mithai ki Khusboo full hindi story
Also read :   Janiye Ek sher ka ghamand kaise tuuta full hindi story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *