Sirf mehnat karne se kuch nahi hoga hindi motivational story

Sirf mehnat karne se kuch nahi hoga hindi Motivational story
Share this Post

दोस्तों ! सफल होने के लिए कड़ी मेहनत करना बहुत जरूरी होती है, क्योंकि हम कड़ी मेहनत के बिना किसी भी काम में सफलता नहीं पा सकते हैं । लेकिन सिर्फ कड़ी मेहनत कर लेने से ही हमें सफलता प्राप्त नहीं होती है बल्कि कड़ी मेहनत के साथ हमे एक सही दिशा की जरूरत भी होती है । बिना सही दिशा में प्रयास किए हम सफल नहीं हो सकते हैं । इस बात को समझने के लिए हम एक छोटी सी कहानी का उदाहरण लेते हैं ।
एक जवान दीपावली की छुट्टी में घूमने राजस्थान गया हुआ था । उसे वापस लौटते समय ट्रेन पकड़ने के लिए रेलवे स्टेशन जाना था । फौजी होने के कारण उनके पास डिपार्टमेंट की बैग थी जिसमें बहुत सारे सामान एवं अन्य समान थी । जो काफी वजनदार था । उन्होंने एक रिक्शे वाले से स्टेशन चलने के लिए बोला । परंतु रिक्शेवाले ने रेलवे स्टेशन जाने के लिए पूरे ₹100 का मांग किया । लेकिन जवान को रेलवे स्टेशन के लिए यह भाड़ा काफी ज्यादा लगा । और उन्होंने भाड़े को कुछ कम करने के लिए बोला परंतु रिक्शेवाले ने साफ मना कर दिया ।

Sirf mehnat karne se kuch nahi hoga hindi Motivational story

Sirf mehnat karne se kuch nahi hoga hindi Motivational story

फिर इसके बाद जवान ने अपने सारे थैले को अपने कंधे पर उठाया और रेलवे स्टेशन की तरफ जाने लगा । जवान काफी समय चलने के बाद भी रेलवे स्टेशन नहीं पहुंच पाया , और वह काफी थक भी चुका था। तभी उसकी नजर उस रिक्शे वाले पर पड़ा जो स्टेशन जाने के लिए मना किया था । फौजी ने थक- हार कर फिर उस रिक्शा वाले के पास गया और बोला ” भाई ! अब तो रेलवे स्टेशन पहुंचा दो मैंने तो आधा से ज्यादा दूरी पैदल ही चला आया ”
लेकिन इस बार रिक्शेवाले ने पहले से दुगनी भाड़ा मांगा जिसे सुनकर फौजी को बहुत अजीब लगा उसने बोला ” भाई ! उस समय तुम्हारे रिक्शे पर नहीं बैठा इसलिए भाव खा रहे हो ”
रिक्शेवाले ने बहुत विनम्रता से बोला ” साहब ! मैं भला भाव क्यों खाऊंगा ? ” आप तो मेरे कस्टमर है औऱ कस्टमर भगवान का रूप होता मैं तो बस अपनी किराया मांग रहा हूं ” लेकिन फौजी को यह समझ में नहीं आ रही थी कि आखिर यह भाड़ा दुगनी क्यों मांग रहा है ?
फिर रिक्शा वाले ने बताया साहब आप रेलवे स्टेशन जाने के बजाये आप रेलवे स्टेशन के विपरीत दिशा में उससे दुगनी दूरी आ गए हैं । जिसके वजह से ही मैं उससे दुगनी किराया मांग रहा हूं क्योंकि यहाँ से रेलवे स्टेशन का किराया उससे दुगनी ही है ।
यह सुनकर फौजी को बहुत अफसोस हुआ और वह चुपचाप रिक्शे पर जाकर बैठ गया ।

Also read :   IAS ki kahani hindi motivational story (sabse shaktishali insaan)

दोस्तों , हम लोग को भी इस कहानी से सीख लेनी चाहिए हमें सफलता पाने के लिए सबसे पहले अपना लक्ष्य को निर्धारित करना होगा उसके बाद अपने लक्ष्य की दिशा में हीं हमें कड़ी मेहनत करना होगा तब जाकर हम अपनी मंजिल को पा सकते हैं सफल हो सकते हो। ।

“Sirf mehnat karne se kuch nahi hoga hindi motivational story” पसंद आयी तो हमारे टवीटर पेज को फॉलो जरूर करें ।

Pinterest.com/cbrmixofficial

Twitter.com/cbrmixglobal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *