Pizza ke aath tukde

Pizza ke aath tukde hindi story
Share this Post

पत्नी ने कहा – आज धोने के लिए ज्यादा कपड़े मत निकालना…

पति- क्यों??

उसने कहा..- अपनी काम वाली बाई दो दिन नहीं आएगी…

पति- क्यों??

पत्नी- गणपति के लिए अपने नाती से मिलने बेटी के यहाँ जा रही है, बोली थी…

पति- ठीक है, अधिक कपड़े नहीं निकालता…

पत्नी- और हाँ!!! गणपति के लिए पाँच सौ रूपए दे दूँ उसे? त्यौहार का बोनस..

Pizza ke aath tukde hindi story

पति- क्यों? अभी दिवाली आ ही रही है, तब दे देंगे…

पत्नी- अरे नहीं बाबा!! गरीब है बेचारी, बेटी-नाती के यहाँ जा रही है, तो उसे भी अच्छा लगेगा… और इस महँगाई के दौर में उसकी पगार से त्यौहार कैसे मनाएगी बेचारी!!

पति- तुम भी ना… जरूरत से ज्यादा ही भावुक हो जाती हो…

पत्नी- अरे नहीं… चिंता मत करो… मैं आज का पिज्जा खाने का कार्यक्रम रद्द कर देती हूँ… खामख्वाहपाँच सौ रूपए उड़ जाएँगे, बासी पाव के उन आठ टुकड़ों के पीछे…

पति- वा, वा… क्या कहने!! हमारे मुँह से पिज्जा छीनकर बाई की थाली में??
तीन दिन बाद… पोंछा लगाती हुई कामवाली बाई से पति ने पूछा…

पति- क्या बाई?, कैसी रही छुट्टी?

बाई- बहुत बढ़िया हुई साहब… दीदी ने पाँच सौ रूपए दिए थे ना.. त्यौहार का बोनस..

पति- तो जा आई बेटी के यहाँ…मिल ली अपने नाती से…?

बाई- हाँ साब… मजा आया, दो दिन में 500 रूपए खर्च कर दिए…

पति- अच्छा!! मतलब क्या किया 500 रूपए का??

बाई- नाती के लिए 150 रूपए का शर्ट, 40 रूपए की गुड़िया, बेटी को 50 रूपए के पेढे लिए, 50 रूपए के पेढे मंदिर में प्रसाद चढ़ाया, 60 रूपए किराए के लग गए.. 25 रूपए की चूड़ियाँ बेटी के लिए और जमाई के लिए 50 रूपए का बेल्ट लिया अच्छा सा… बचे हुए 75 रूपए नाती को दे दिए कॉपी-पेन्सिल खरीदने के लिए… झाड़ू-पोंछा करते हुए पूरा हिसाब उसकी ज़बान पर रटा हुआ था…

पति- 500 रूपए में इतना कुछ???

वह आश्चर्य से मन ही मन विचार करने लगा…उसकी आँखों के सामने आठ टुकड़े किया हुआ बड़ा सा पिज्ज़ा घूमने लगा, एक-एक टुकड़ा उसके दिमाग में हथौड़ा मारने लगा… अपने एक पिज्जा के खर्च की तुलना वह कामवाली बाई के त्यौहारी खर्च से करने लगा… पहला टुकड़ा बच्चे की ड्रेस का, दूसरा टुकड़ा पेढे का, तीसरा टुकड़ा मंदिर का प्रसाद, चौथा किराए का, पाँचवाँ गुड़िया का, छठवां टुकड़ा चूडियों का, सातवाँ जमाई के बेल्ट का और आठवाँ टुकड़ा बच्चे की कॉपी-पेन्सिल का..आज तक उसने हमेशा पिज्जा की एक ही बाजू देखी थी, कभी पलटाकर नहीं देखा था कि पिज्जा पीछे से कैसा दिखता है… लेकिन आज कामवाली बाई ने उसे पिज्जा की दूसरी बाजू दिखा दी थी… पिज्जा के आठ टुकड़े उसे जीवन का अर्थ समझा गए थे… “जीवन के लिए खर्च” या “खर्च के लिए
जीवन” का नवीन अर्थ एक झटके में उसे समझ आ गया…?

If you like this story Please don’t forget to like our social media page –


Facebook.com/cbrmixglobal

Twitter.com/cbrmixglobal

 

Also read :   Shant man chamatkaar kar sakta hai best hindi motivational story

 

Related posts:

Dil ko chhu jaane wali ek sundar si ladki ki kahani full story
Muslim bhai Humayun aur hindu behan Karnawati ki prachin kahani
Kya tumne kabhi apne maa ke haaton ko dekha hai Praveen
Mere papa ki aukat best hindi story
Jaanwar Kaun Full hindi story
Ek aurat ne likha hindi story
Jhutha Ladka
Miya Biwi ke beech subah subah jordar jhagda ho gaya
Ghatwar baba Ganga ke tatrakshak hote hain kahani Ghatwar baba ki
Beemar Maa
Ek acchi soch full hindi story
Janiye kyun Aise he kisi ko naam se bhog nahi lagana chahiye
Holland Ki ghatna - pull tut gaya full hindi motivational story
Asli sach full hindi story
बेटी नाराज हो गयीपापा जाने लगे जब ऑफिस best hindi story
Sirf bhakti ki pyaas honi chahiye (hindi adhatmik kahani)
Sasur ne ghar ko kaidkhana bana kar rakh dia (Hindi story)
Daadi maa lassi piyogi kya hindi story of a woman
Kamini ke upar usne kia vashikaran aur phir
Din raat subah saam Sonal ko wah ladki najar aane lagi bhoot ki Kahani
Dahej na Lein full hindi story
Darawani gufa main kyu ghusa hindi horror story
Upar wale kamre me jarur koi rehta hai hindi ghost story
Coronavirus par ek pita ki dard bhari kahani
Samosa wale ki dukan
Jo chahoge wahi paoge ( hindi motivational story) prerak kahani
Stree kyu pujaniya hai full hindi story on woman prachin kahaniya
Bahut jyada Income tax dena padta hai (motivational story)
एक गिलास दूध का भुगतान कर दिया गया है एक डॉक्टर की कहानी
Behan ko kaid se mukt karaunga bhai behan ki kahani
Tum bahot acche ho ek pyar bhari kahani thand ke mausam me
Muft ki rotiyan sad hindi story
Maa Baap ko kabhi mat bhulna emotional hindi story
Jaisa karm karoge waise hi fal milega-hindi story
Biwi se itna kyu darte ho hindi story
Himmat na haarein
Us purani Haveli me jarur koi hai hindi bhoot ki kahani
खुशी अगर बांटना चाहो तो best hindi story (story on dukandaar)
Parmeshwar ya jeewan sathi full hindi story
Doctor sahab ne kaha hai ki khali pet dawai nahi khana hai story
Riston ki bhi expiry date hoti hai pariwarik kahani (Ek bar jarur padhen)
Papa hum ameer hote hue bhi kitne gareeb hain hindi kahani
Karma ka lekha jhokha hota hai rochak hindi kahani moral story
Bhai chala apni choti behan ke saath bazaar
Murkh Kaun hai full hindi story (ek samajdar aurat ki kahani)
Apni behan se kiya hua wo waada
Beta maa ko hamesha ke liye chod ke chala gaya America
Akhir chori hui kaise (high suspense full hindi story)
Apno ki Jarurt best hindi story
Wo kaun thi ek sacchi bhoot pret ki kahani
Babu ye kya kar rahe ho full sad hindi story of a girl
Ek aurat roti banate banate full hindi emotional story
Bhudape ka sahara
Kaun hoon main full hindi story on Shri Guru Govind singh
Chota baccha full hindi sad story (hindi sad story)
Kashi me ek brahman ban gaya kasai full prachin hindi kahani
Ab se tum mujhe Mam nahi Didi hi bolna bhai behan kahani
Murtikaar ki maut ki kahani (prachin hindi kahaniyaan)
Insaaf Mangti Atma-kanpur me 1982 ki sacchi ghatna 
समय अनमोल है Time is Precious

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *