Muslim bhai Humayun aur hindu behan Karnawati ki prachin kahani

Muslim bhai Humayun aur hindu behan Karnawati ki prachin kahani
अपने दोस्तों से शेयर करें

Muslim bhai Humayun aur hindu behan Karnawati ki prachin kahani


दुनिया में सबसे प्यारा रिश्ता अगर कोई है तो वो है भाई और बहन का रिश्ता. जिनकी बहन होती है वो खुद को दुनिया का सबसे खुशनसीब इंसान समझते है और इसी तरह जिन लड़कियों को भाई का प्यार मिलता है उनसे भाग्यशाली शायद ही कोई होता है.

भाई बहन के प्यार का का त्यौंहार रक्षाबंधन अब बस दो दिन ही दूर है.

Muslim bhai Humayun aur hindu behan Karnawati ki prachin kahani

Muslim bhai Humayun aur hindu behan Karnawati ki prachin kahani

रक्षाबंधन से जुड़ी कई कहानियां है कि इस पर्व की शुरुआत कैसे हुई.

ऐसी ही एक कहानी है जब एक हिन्दू रानी ने अपने मुसलमान भाई को राखी भेजकर अपनी रक्षा करने की गुहार लगाई थी.

उस एक छोटे से धागे की ताकत ये थी कि वो मुसलमान बादशाह अपनी बहन के प्राणों की रक्षा के लिए दौड़ा चला आया.

चलिए आपको बताते है रक्षाबंधन की कहानी रानी कर्णावती और बादशाह हुमायूँ की.

धर्म से ऊपर उठकर भाई बहन के रिश्ते की ये अमर गाथा जो आपके दिल को पिघलाकर रख देगी.

यह भी पढ़े :   Himmat - full hindi (motivational) story

ये घटना करीब 500 साल पहले की है जब चित्तौड़ पर बहादुर शाह गुजरात सुल्तान ने हमला किया था. उस समय चित्तौड़ की गद्दी पर विक्रमादित्य था. विक्रमादित्य एक निकम्मा राजा था और जनता भी उससे घृणा करती थी. उस समय रानी कर्णावती ने चित्तौड़ की गद्दी संभाली. जब बहादुरशाह ने हमला किया तो चित्तौड़ की और किले में रहने वाली औरतों की इज्ज़त की रक्षार्थ रानी ने मुग़ल बादशाह हुमायूँ से रक्षा की गुहार लगाई और सन्देश के साथ राखी भेजी.

मुग़ल बादशाह हुमायूँ वो संदेश पाते ही पूरे दल बल के साथ चित्तौड़ की तरफ बढ़ गया पर हुमायूँ को चित्तौड़ पहुँचने में देर हो गयी, अब हुमायूँ पहुंचा तो रानी कर्णावती जौहर की आग में कूद चुकी थी.

अपनी बहन की मौत देखकर हुमायूँ का क्रोध और भी बढ़ गया और उसके बाद मुग़ल बादशाह ने बहादुर शाह को ना सिर्फ चित्तौड़ से उल्टे पैर दौड़ाया बल्कि बहादुरशाह को दीव तक खदेड़ दिया.

Muslim bhai Humayun aur hindu behan Karnawati ki prachin kahani

रानी कर्णावती की राखी मिलने के समय हुमायूँ बंगाल में था और राजस्थान पहुँचने में समय लग गया. एक मुसलमान बादशाह होते हुए भी हुमायूँ ने रक्षा बंधन और भाई बहन के रिश्ते का सम्मान किया और बहादुरशाह को हराकर रानी कर्णावती के पुत्र विक्रमादित्य को फिर से चित्तौड़ की गद्दी पर बैठाया.

यह भी पढ़े :   Us bacche ka apharan karke jeevadhari bana diya gaya

देखा आपने कितना पवित्र और पाक है ये रक्षाबंधन का त्यौंहार.

एक मुसलमान बादशाह ने एक हिन्दू रानी के लिए दुसरे मुस्लिम राजा से युद्ध किया सिर्फ अपनी बहन को दिया गया वचन निभाने के लिए.


“Muslim bhai Humayun aur hindu behan Karnawati ki prachin kahani” पसंद आयी तो हमारे फेसबुक और टवीटर पेज को लाइक और शेयर जरूर करें ।

Facebook.com/cbrmixglobal

Twitter.com/cbrmixglobal

More from Cbrmix.com

यह भी पढ़े :   Bhai chala apni choti behan ke saath bazaar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *