Kadvi magar pyari saas ki kahani-bas baatein kadvi hoti hain

Kadvi magar pyari saas ki kahani-bas baatein kadvi hoti hain
Share this Post

अंदर से आवाज- जिंदा हूं माँ जी।

तो फिर मेरी चाय क्यूं अभी तक नहीं आई, कब से पूजा करके बैठी हूं

ला रही हूं माँ जी,

बहू चाय के साथ, भजिया भी ले आयी, सास ने कहा तेल का खिलाकर क्या मरोगी?

बहू ने कहा- ठीक हैं माँ जी ले जाती हूं।

Kadvi magar pyari saas ki kahani-bas baatein kadvi hoti hain

सास ने कहा- रहने दे अब बना दिया हैं तो खा लेती हूं।

सास ने भजिया उठाई और कहा- कितनी गंदी भजिया बनाई हैं तुमने।

बहू- माँ जी मुझे कपड़े धोने हैं मैं जाती हूं।

बहू दरवाजे के पास छिपकर खड़ी हो गयी।

सास भजिया पर टूट पड़ी और पूरी भजिया खत्म कर दी।

बहू मुस्कुराई और काम पर लग गई।

दोपहर के खाने का वक्त हुआ। सास ने फिर आवाज लगाई- कुछ खाने को मिलेगा।

बहू ने आवाज नहीं दी।

सास फिर चिल्लाई- भूखे मारोगी क्या, बहू आयी सामने खिचड़ी रख दी।

सास गुस्से से- ये क्या है, मुझे इसे नहीं खाना इसे। ले जाओ।

बहू ने कहा- आपको डॉक्टर ने दिन में खिचड़ी खाने को कहा है, खाना तो पड़ेगा ही।

सास मुंह बनाते हुए, हाँ तू मेरी माँ बन जा, बहू फिर मुस्कुराई और चली गई।

आज इनके घर पूजा थी

, बहू सुबह 4 बजे से उठ गयी। पहले स्नान किया, फिर फूल लाई। माला बनाई। रसोई साफ की। पकवान और भोज बनाया। सुबह के 10 बज गए।

अब सास भी उठ चुकी थी। बहू अब पंडित जी के साथ भगवान के वस्त्र तैयार कर रही थी।

आज ऑफिस की छुट्टी भी थीय़ उनके पति भी घर पर थे।

पूजा शुरू हुई,

सास चिल्लाती बहू ये नहीं है, वो नही है।

बहू दौड़ी-दौड़ी आती और सब करती।

अब दोपहर के 3 बज गये थे, आरती की तैयारी चल रही थी, पंडित जी ने सबको आरती के लिए बुलाया और सबके हाथों में थाली दी, जैसे ही बहू ने थाली पकड़ी, थाली हाथों से गिर पड़ी। शायद भोज बनाते हुए बहू के हाथों मे तेल लगा था, जिसे वो पोंछना भूल गयी थी।

सारे लोग तरह-तरह की बातें करने लगे। कैसी बहू है, कुछ नहीं आता। एक काम भी ठीक से नहीं कर सकती। ना जाने कैसी बहू उठा लाए। एक आरती की थाली भी संभाल नहीं सकीय़

उसके पति भी गुस्सा हो गए पर सास चुप रही। कुछ नहीं कहा। बस यही बोल के छोड़ दिया सीख रही है, सब सीख जाएगी धीरे-धीरे।

अब सबको खाना परोसा जाने लगा, बहू दौड़-दौड़ के खाना देती, फिर पानी लाती। करीब 70- 80 लोग हो गये थे, इधर दो नौकर और बहू अकेली फिर भी वहाँ सारा काम, बहुत ही अच्छे तरीके से करती।

अब उसकी सास और कुछ आसपड़ोस के लोग खाने पर बैठे, बहू ने खाना परोसना शुरू किया, सब को खाना दे दिया गया,

जैसे ही पहला निवाला सास ने खाया- तुमने नमक ठीक नहीं डाला क्या। एक काम ठीक से नहीं करती। पता नहीं मेरे बाद कैसे ये घर संभालेगी।

आस-पड़ोस वालों को तो जानते ही हो ना साहब। वो बस बहाना ढूंढते हैं नुक्स निकालने का। फिर वो सब शुरू हो गये, ऐसा खाना है, ऐसी बहू है, ये वो वगैरहा-वगैरहा। दिन का खाना हो चुका था, अब बहू बर्तन साफ करने नौकरों के साथ लग गई।

रात में जगराता का कार्यक्रम रखा गया था।

बहू ने भी एक दो गीत गाने के लिए स्टेज पर चढ़ी।

सास जोर से चिल्लाई- मेरी नाक मत कटा देना, गाना नहीं आता तो मत गा, वापस आ जा।

बहू मुस्कुराई और गाने लगी।

सबने उसके गाने की तारीफ की, पर सास मुंह फूलाते हुए बोली, इससे अच्छा तो मैं गाती थी जवानी में, तुझे तो कुछ भी नहीं आता। बहू मुस्कुराई और चली गई।

अब रात का खाना खिलाया जा रहा था।

उसके पति के ऑफिस के दोस्त साइड में ही ड्रिंक करने लगे। उसका पति चिल्लाता थोड़ा बर्फ लाओ, तो सास चिल्लाती यहाँ दाल नहीं है, फिर चिल्लाता कोल्ड ड्रिंग नहीं है, पापड़ ले आओ।

इधर-उधर आखिरी में उसके पति की शराब गिर पड़ी उसके एक दोस्त पर और बोलत टूट गई।

पति गुस्से में दो झापड़ अपनी पत्नी को लगाते हुए कहता है- जाहिल कहीं की। देखकर नहीं कर सकती। तुझे इतना भी काम नहीं आता।

सारे लोग देखने लगे। उसकी पत्नी रोते हुए कमरे की तरफ दौड़ी, फिर उसके दोस्तों ने कहा- क्या यार पूरा मूड खराब कर दिया, यहाँ नहीं बुलाया होता, हम कहीं और पार्टी कर लेते। कैसी अनपढ़-गंवार बीवी ला रखी है तूने। उसे तो मेहमानों की इज्जत और काम करना तक नहीं आता, तुमने तो हमारी बेईजती कर दी।

अब आस पड़ोस की औरतों को और बहाना मिल गया था। वो कहने लगीं, देखो क्या कर दिया तुम्हारी बहू ने। कोई काम कीं नही है। मैं तो कहती हूं अपने बेटे की दूसरी शादी करा दो, छुटकारा पाओ इस गंवार से।

सास उठी और अपने बेटे के पास जाकर उसे थप्पड़ मारा और कहा- अरे नालायक, तुमने मेरी बहू को मारा, तेरी हिम्मत कैसे हुई। तेरी टाँग तोड़ दूंगी, उसके बेटे के दोस्त कुछ कहने ही वाले थे कि उसकी माँ ने घूरते हुए- कहा चुप बिल्कुल चुप। यहाँ दारू पीने आये हो, जबकि पता है आज पूजा है और तुम्हें पार्टी करनी है, कैसे संस्कार दिये हैं तुम्हारे, माता-पिता ने।

और किसने मेरी बहू को जाहिल बोला, जरा इधर आओ। चप्पल से मारूंगी अगर मेरी बहू को किसी ने शब्द भी कहा तो। अरे पापी, तूने उस लड़की को बस इसलिए मारा कि तेरी शराब टूट गयी, पापी वो बच्ची सुबह चार बजे से उठी है। घर का सारा काम कर रही है। ना सुबह से नाश्ता किया ना दिन का खाना खाया। फिर भी हंसते हुए सबकी बातें सुनते हुए, ताने सुनते हुए घर के काम में लगी रही। तेरे यार दोस्तो को वो अच्छी नहीं लगी। जूते से मारूंगी तेरे दोस्तों को जो कभी उन्होंने ऐसा कहा।

उसके यार दोस्त चुपके से खिसक लिए।

अब सास, बहू के कमरे मे गयी, और बहू का हाथ पकड़कर बाहर लाई। सबके सामने कहने लगी, किसने कहा था अपनी बहू को घर से निकाल के दूसरी बहू ले आना। जरा सामने आओ।

कोई सामने नहीं आया।

फिर सास ने कहा, तुम जानते भी क्या हो इस लड़की के बारें में। ये मेरी “माँ” भी है, बेटी भी।

माँ इसलिए मुझे गलत काम करने पर डाँटती हैं और बेटी इसलिए, कभी-कभी मेरी दिल की भावनाएं समझ जाती हैं। मेरी दिन-रात सेवा करती है। मेरे हजार ताने सुनती है पर एक शब्द भी गलत नहीं कहती। ना सामने ना पीठ पीछे,और तुम कहते हो, दूसरी बहू ले आऊं।

याद है ना छुटकी की दादी,

अपनी बहू की करतूत, सास ने गुस्से से पड़ोस की महिला को कहा, अभी पिछले हफ्ते ही तुम्हें मियां-बीवी भूखे छोड़ घूमने चले गये थे। मेरी इसी बहू ने 7 दिनों तक तुम्हारे घर पर खाना-पानी यहाँ तक कि तुम्हारे पैर दबाने जाती थी और तुम इसे जाहिल बोलती हो। जाहिल तो तुम सब हो जो कोयले और हीरे में फर्क नही जानते। अगर आइंदा मेरी बहू के बारे में किसी ने एक लफ्ज भी बोला तो मुझसे बुरा कोई नहीं होगा क्यूंकि ये मेरी बहू नहीं, मेरी बेटी है।

बहू_सिसकियाँ लेते हुये फिर कमरें में चली गई।

सास ने एक प्लेट उठायी और भोजन परोसा और बहू के कमरे में खुद ले गयी, सास को भोजन लाते देखा तो बहू ने कहा- अरे माँ जी आप क्या कर रही हों, मैं खुद ले लेती। सास ने प्यार से ताना मारते हुये कहा, डर मत इसमें जहर नही हैं, मार नहीं डालूंगी तुझे। तुझे नई सास चाहिए होगी, पर मुझे अभी भी तू ही मेरे घर की बहू चाहिए

बहू ने अपनी सास को रोते हुए गले से लगा लिया।

सास भी रो दी पहली बार और कहा- चल खाना खा ले। फिर उसके आंसू पोंछते हुए बोली…… अरे तु मेरी बहु नही मेरी बेटी है……

कुछ रिश्ते बहुत मीठे होते हैं, बस बातें कड़वी होती है…..

कहानी पसंद आयी तो हमारे फेसबुक और टवीटर पेज को लाइक और शेयर जरूर करें ?


? Facebook.com/cbrmixglobal

? Twitter.com/cbrmixglobal

Related posts:

Babu ye kya kar rahe ho full sad hindi story of a girl
Kaun hoon main full hindi story on Shri Guru Govind singh
Har Kisi ko saath ki jarurat hoti hai full hindi kahani
Is bar main bola hi nahi bhootiya rasta ki darawani kahani
Wo kaun thi ek sacchi bhoot pret ki kahani
Sirf bhakti ki pyaas honi chahiye (hindi adhatmik kahani)
Ek Aurat ka Dard Full hindi story
Ab Tum mujhe katne aa gaye ho full hindi sad story
Ishwar kaha rehte hain aur kya karte hain (prerak katha)
Pair ka juuta kahan se aur kab aaya best full hindi story
Kya tumne kabhi apne maa ke haaton ko dekha hai Praveen
Dil ko chhu jaane wali ek sundar si ladki ki kahani full story
Ganwar aurat kamati thi tees paintis hazar rupaye mahine hindi story
Us sundar si Ladki ko gussa bahut aata tha full hindi story
Maa beta ki kahani - Bete ka janamdin
Teacher ne fasaya 15 saal ki ladki ko apne hawas ke jaal me school love story
Pizza ke aath tukde
Jeevan ka Najariya Full hindi story
Is ghar me tera utna hi adhikar hai best hindi story
Murtikaar ki maut ki kahani (prachin hindi kahaniyaan)
Kitchen aur bathroom me koi hai (sacchi ghatna par aadharit ghost story)
Sasur ne ghar ko kaidkhana bana kar rakh dia (Hindi story)
Upar wale kamre me jarur koi rehta hai hindi ghost story
Pandiji ka rahasmaiyai chhata hindi horror story (Full)
Beti bachao beti padhao full hindi story 2
Aisi Sundarta kisi kaam ki nahi full hindi story
Behan ko kaid se mukt karaunga bhai behan ki kahani
Parmeshwar ya jeewan sathi full hindi story
Jeevan ke rang full hindi story
Garibi bhi ek musibat ban gayi thi full hindi sad story
Aap asli raja ho
Coronavirus par ek pita ki dard bhari kahani
Meri pyari behan full hindi story (bhai behan ki kahani)
Ek Judge ka talaak (rula dene wali kahani hindi me)
Main tumhe ek khubsoort si afsara de raha hu prachin rochak kahani
Us purani Haveli me jarur koi hai hindi bhoot ki kahani
Beti bachao Beti padhao story-Dahej ka vahiskar karein
Maa ke naam Full hindi story
Narayani ki Kahani Combined hospital Kanpur Cantt
Stree kyu pujaniya hai full hindi story on woman prachin kahaniya
Ghatwar baba Ganga ke tatrakshak hote hain kahani Ghatwar baba ki
Yamraaj aur Yamuna ki prachin kahani
Bhabhi maa me dikhi apni maa ki murat
Dusre Ladke se shadi full hindi story
Muft ki rotiyan sad hindi story
Papa hum ameer hote hue bhi kitne gareeb hain hindi kahani
Doctor sahab ne kaha hai ki khali pet dawai nahi khana hai story
लड़कियाँ इसी लिए मायके आती होंगी क्यूकि Best full hindi story
Combined Hospital me Nana Rao Peshwa ji ka bhoot aya
Bahut jyada Income tax dena padta hai (motivational story)
Chota baccha full hindi sad story (hindi sad story)
Medical College ke bargad ke ped ki kahani
Ek acchi soch full hindi story
Janiye Ek sher ka ghamand kaise tuuta full hindi story
Kanpur ke Civil lines me Gora Kabristan ki ek darawani sacchi bhutia ghatna
Bhai chala apni choti behan ke saath bazaar
Rachna machine hai kya full hindi story
Akhir chori hui kaise (high suspense full hindi story)
Kya tumhe bilkul bhi dar nahi lag raha hai kya pati patni ki kahani
Himmat - full hindi (motivational) story
Also read :   Garibi bhi ek musibat ban gayi thi full hindi sad story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *