Jhagda ho gaya bhai behan ki kahani hindi me Cbrmix.com

Jhagda ho gaya bhai behan ki kahani hindi me Cbrmix
Share this Post

Jhagda ho gaya bhai behan ki kahani hindi me

‘मुझसे तमीज़ से बात करो समझे – मैं कोई ऐरी गैरी नहीं – एम एल ए त्रिभुवन द्विवेदी की बहू हूँ |’ उसने ये बात अपने भाई से कह दिया |

भाई भी चुप नहीं रहा |

Jhagda ho gaya bhai behan ki kahani hindi me Cbrmix

‘होगी तुम किसी की बहू पर मैं डाक्टर आनंद तुमसे ये कहता हूँ कि तुमसे जो करते बने तुम कर लो पर इस जायदाद की एक फूटी कौड़ी भी मैं तुम्हें नहीं दूंगा |’

‘तुम क्या मुझे रोकोगे – इतना याद रखो कि इस जायदाद में मेरा भी हिस्सा है |’ बहन ने जवाब दिया |

‘जायदाद में तुम्हारा कोई हिस्सा नहीं – मम्मी पापा ने तुम्हारी शादी की – बहुत खर्च किया उसमें , इतना दान दहेज दिया – वो जीते जी भी तुम्हें हमेशा कुछ न कुछ देते ही रहे पर अब उनके जाने के बाद तुम्हारा इस घर की जायदाद में कोई हिस्सा नहीं बनता ,समझी और ये बात मैं कह रहा हूँ |’उसका स्वर और बुलंद हो उठा |

दो भाई बहन आपस में देर तक लड़े |वाक युद्ध में एक दूसरे को शब्दों में मात देते रहे | उन की माँ अपने दोनों बच्चों की शादी कर स्वर्ग सिधार गई और पिता तेरहा दिन पूर्व ही सिधारे थे | बहन तेरहवीं में आई थी | माता पिता जायदाद की कोई लिखा पढ़ी नहीं कर गए थे | शायद अनभिज्ञ थे या इसकी जरूरत नहीं समझी थी | लगा होगा बेटा डॉक्टर है ,उसकी पत्नी भी डॉक्टर है | बेटी भी पढ़ी लिखी है और अच्छे घर ब्याही है | फिर जायदाद शायद सहमति में बटँ जाएगी पर – |

बहन का चेहरा गुस्से में लाल था | भाई भी किसी कोने में हाथ बांधे अँगारा हो रहा था | पंडित भी आ चुके थे घर के बाकी के सदस्य भी धीरे धीरे करके एकत्र हो रहे थे | वहाँ का माहौल अब शांति पूर्ण था | पर दो बच्चे पाँच वर्ष का एक लड़का और एक तीन वर्ष की लड़की थी जो शायद इन्ही भाई बहन के बच्चे थे ,वहाँ दौड़ते हुए आते है | उनकी चंचलता बरबस ही सबका ध्यान अपनी ओर खींच लेती है | आँगन में पड़े झूले के लिए दोनों बच्चे एक साथ दौड़ लगाते है | लड़का बड़ा था ,उस झूले को पहले पा लेता है | लड़की का मुँह बन जाता है | वो लगभग रोने ही वाली थी | लड़का जल्दी से उसकी तरफ मुड़कर मुस्कराता है | फिर बड़े प्यार से अपने नन्हें हाथों से सहारा दे कर वो उस लड़की को झूले में बैठा देता है |लड़की खिलखिला कर हँस देती है | लड़का बड़े प्यार से संभालते हुए उसे झूला झूलाने लगता है | अब उन दोनों के चेहरे पर मुस्कान थी | वो एक दूसरे के जान के दुश्मन भाई बहन भी उन पर से अपना ध्यान नहीं हटा पाते | वे देखते है कि वे मासूम भाई बहन कैसे प्यार से एक दूसरे के साथ थे | जहाँ अधिकारों की कोई छीन झपट नहीं थी वहाँ सिर्फ प्यार का लेन देन था | वे देखते है कि वो लड़की अब झूले में उस लड़के को भी जगह दे देती है और अब दोनों झूले पर एक साथ झूलने लगे थे | उन नन्हें भाई बहन का प्यार उन बड़े भाई बहन की अंदर की ज्वाला को झंझोर देता है कि तभी दोनों की नज़र एक साथ देखती है कि झूले का बंधन खुल रहा है ,बस झूला गिरने ही वाला था कि दोनों बिजली की फुर्ती से एक साथ लपकते है और दोनों बच्चों को अपनी गोद में खींच कर अनायास होने वाली घटना से उन दोनों को बचा लेते है | दोनों बच्चों को भींचे वे अब एक दूसरे को देख रहे थे| अब उन सुर्ख आँखों में दर्द की बूंदें छलक आई थी | मानो जंगल की आग से जली जमीं की राख पर जीवन के फूल खिल आए हो |

कहानी “Jhagda ho gaya bhai behan ki kahani hindi me” पसंद आयी तो हमारे फेसबुक और टवीटर पेज को लाइक और शेयर जरूर करें ?


? Facebook.com/cbrmixglobal

? Twitter.com/cbrmixglobal

Support/Donate Us (Bhim UPI ID) :[email protected]

Also read :   Maa beta ki kahani - Bete ka janamdin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *