Chota baccha full hindi sad story (hindi sad story)

Chota baccha full hindi sad story (hindi sad story)
Tags:
Share this Post

मैं एक घर के करीब से गुज़र रहा था की अचानक से मुझे उस घर के अंदर से एक बच्चे की रोने की आवाज़ आई। उस बच्चे की आवाज़ में इतना दर्द था कि अंदर जा कर वह बच्चा क्यों रो रहा है, यह मालूम करने से मैं खुद को रोक ना सका।

Chota baccha full hindi sad story (hindi sad story)

अंदर जा कर मैने देखा कि एक माँ अपने दस साल के बेटे को आहिस्ता से मारती और बच्चे के साथ खुद भी रोने लगती। मैने आगे हो कर पूछा बहनजी आप इस छोटे से बच्चे को क्यों मार रही हो? जब कि आप खुद भी रोती हो।

उस ने जवाब दिया भाई साहब इस के पिताजी भगवान को प्यारे हो गए हैं और हम लोग बहुत ही गरीब हैं, उन के जाने के बाद मैं लोगों के घरों में काम करके घर और इस की पढ़ाई का खर्च बामुश्किल उठाती हूँ और यह कमबख्त स्कूल रोज़ाना देर से जाता है और रोज़ाना घर देर से आता है।

जाते हुए रास्ते मे कहीं खेल कूद में लग जाता है और पढ़ाई की तरफ ज़रा भी ध्यान नहीं देता है जिस की वजह से रोज़ाना अपनी स्कूल की वर्दी गन्दी कर लेता है। मैने बच्चे और उसकी माँ को जैसे तैसे थोड़ा समझाया और चल दिया।

इस घटना को कुछ दिन ही बीते थे की एक दिन सुबह सुबह कुछ काम से मैं सब्जी मंडी गया। तो अचानक मेरी नज़र उसी दस साल के बच्चे पर पड़ी जो रोज़ाना घर से मार खाता था। मैं क्या देखता हूँ कि वह बच्चा मंडी में घूम रहा है और जो दुकानदार अपनी दुकानों के लिए सब्ज़ी खरीद कर अपनी बोरियों में डालते तो उन से कोई सब्ज़ी ज़मीन पर गिर जाती थी वह बच्चा उसे फौरन उठा कर अपनी झोली में डाल लेता।

मैं यह नज़ारा देख कर परेशानी में सोच रहा था कि ये चक्कर क्या है, मैं उस बच्चे का चोरी चोरी पीछा करने लगा। जब उस की झोली सब्ज़ी से भर गई तो वह सड़क के किनारे बैठ कर उसे ऊंची ऊंची आवाज़ें लगा कर वह सब्जी बेचने लगा। मुंह पर मिट्टी गन्दी वर्दी और आंखों में नमी, ऐसा महसूस हो रहा था कि ऐसा दुकानदार ज़िन्दगी में पहली बार देख रहा हूँ ।

अचानक एक आदमी अपनी दुकान से उठा जिस की दुकान के सामने उस बच्चे ने अपनी नन्ही सी दुकान लगाई थी, उसने आते ही एक जोरदार लात मार कर उस नन्ही दुकान को एक ही झटके में रोड पर बिखेर दिया और बाज़ुओं से पकड़ कर उस बच्चे को भी उठा कर धक्का दे दिया।

वह बच्चा आंखों में आंसू लिए चुप चाप दोबारा अपनी सब्ज़ी को इकठ्ठा करने लगा और थोड़ी देर बाद अपनी सब्ज़ी एक दूसरे दुकान के सामने डरते डरते लगा ली। भला हो उस शख्स का जिस की दुकान के सामने इस बार उसने अपनी नन्ही दुकान लगाई उस शख्स ने बच्चे को कुछ नहीं कहा।

Also read :   Kya tumne kabhi apne maa ke haaton ko dekha hai Praveen

थोड़ी सी सब्ज़ी थी ऊपर से बाकी दुकानों से कम कीमत। जल्द ही बिक्री हो गयी, और वह बच्चा उठा और बाज़ार में एक कपड़े वाली दुकान में दाखिल हुआ और दुकानदार को वह पैसे देकर दुकान में पड़ा अपना स्कूल बैग उठाया और बिना कुछ कहे वापस स्कूल की और चल पड़ा। और मैं भी उस के पीछे पीछे चल रहा था।

बच्चे ने रास्ते में अपना मुंह धो कर स्कूल चल दिया। मै भी उस के पीछे स्कूल चला गया। जब वह बच्चा स्कूल गया तो एक घंटा लेट हो चुका था। जिस पर उस के टीचर ने डंडे से उसे खूब मारा। मैने जल्दी से जा कर टीचर को मना किया कि मासूम बच्चा है इसे मत मारो। टीचर कहने लगे कि यह रोज़ाना एक डेढ़ घण्टे लेट से ही आता है और मै रोज़ाना इसे सज़ा देता हूँ कि डर से स्कूल वक़्त पर आए और कई बार मै इस के घर पर भी खबर दे चुका हूँ।

खैर बच्चा मार खाने के बाद क्लास में बैठ कर पढ़ने लगा। मैने उसके टीचर का मोबाइल नम्बर लिया और घर की तरफ चल दिया। घर पहुंच कर एहसास हुआ कि जिस काम के लिए सब्ज़ी मंडी गया था वह तो भूल ही गया। मासूम बच्चे ने घर आ कर माँ से एक बार फिर मार खाई। सारी रात मेरा सर चकराता रहा।

सुबह उठकर फौरन बच्चे के टीचर को कॉल की कि मंडी टाइम हर हालत में मंडी पहुंचें। और वो मान गए। सूरज निकला और बच्चे का स्कूल जाने का वक़्त हुआ और बच्चा घर से सीधा मंडी अपनी नन्ही दुकान का इंतेज़ाम करने निकला। मैने उसके घर जाकर उसकी माँ को कहा कि बहनजी आप मेरे साथ चलो मै आपको बताता हूँ, आप का बेटा स्कूल क्यों देर से जाता है।

वह फौरन मेरे साथ मुंह में यह कहते हुए चल पड़ीं कि आज इस लड़के की मेरे हाथों खैर नही। छोडूंगी नहीं उसे आज। मंडी में लड़के का टीचर भी आ चुका था। हम तीनों ने मंडी की तीन जगहों पर पोजीशन संभाल ली, और उस लड़के को छुप कर देखने लगे। आज भी उसे काफी लोगों से डांट फटकार और धक्के खाने पड़े, और आखिरकार वह लड़का अपनी सब्ज़ी बेच कर कपड़े वाली दुकान पर चल दिया।

अचानक मेरी नज़र उसकी माँ पर पड़ी तो क्या देखता हूँ कि वह बहुत ही दर्द भरी सिसकियां लेकर लगा तार रो रही थी, और मैने फौरन उस के टीचर की तरफ देखा तो बहुत शिद्दत से उसके आंसू बह रहे थे। दोनो के रोने में मुझे ऐसा लग रहा था जैसे उन्हों ने किसी मासूम पर बहुत ज़ुल्म किया हो और आज उन को अपनी गलती का एहसास हो रहा हो।

उसकी माँ रोते रोते घर चली गयी और टीचर भी सिसकियां लेते हुए स्कूल चला गया। बच्चे ने दुकानदार को पैसे दिए और आज उसको दुकानदार ने एक लेडी सूट देते हुए कहा कि बेटा आज सूट के सारे पैसे पूरे हो गए हैं। अपना सूट ले लो, बच्चे ने उस सूट को पकड़ कर स्कूल बैग में रखा और स्कूल चला गया।

Also read :   Us bacche ka apharan karke jeevadhari bana diya gaya

आज भी वह एक घंटा देर से था, वह सीधा टीचर के पास गया और बैग डेस्क पर रख कर मार खाने के लिए अपनी पोजीशन संभाल ली और हाथ आगे बढ़ा दिए कि टीचर डंडे से उसे मार ले। टीचर कुर्सी से उठा और फौरन बच्चे को गले लगा कर इस क़दर ज़ोर से रोया कि मैं भी देख कर अपने आंसुओं पर क़ाबू ना रख सका।

मैने अपने आप को संभाला और आगे बढ़कर टीचर को चुप कराया और बच्चे से पूछा कि यह जो बैग में सूट है वह किस के लिए है। बच्चे ने रोते हुए जवाब दिया कि मेरी माँ अमीर लोगों के घरों में मजदूरी करने जाती है और उसके कपड़े फटे हुए होते हैं कोई जिस्म को पूरी तरह से ढांपने वाला सूट नहीं और और मेरी माँ के पास पैसे नही हैं इस लिये अपने माँ के लिए यह सूट खरीदा है।

तो यह सूट अब घर ले जाकर माँ को आज दोगे? मैने बच्चे से सवाल पूछा। जवाब ने मेरे और उस बच्चे के टीचर के पैरों के नीचे से ज़मीन ही निकाल दी। बच्चे ने जवाब दिया नहीं अंकल छुट्टी के बाद मैं इसे दर्जी को सिलाई के लिए दे दूँगा। रोज़ाना स्कूल से जाने के बाद काम करके थोड़े थोड़े पैसे सिलाई के लिए दर्जी के पास जमा किये हैं।

टीचर और मैं सोच कर रोते जा रहे थे कि आखिर कब तक हमारे समाज में गरीबों के साथ ऐसा होता रहेगा उन के बच्चे त्योहार की खुशियों में शामिल होने के लिए जलते रहेंगे आखिर कब तक।

क्या ऊपर वाले की खुशियों में इन जैसे गरीब का कोई हक नहीं ? क्या हम अपनी खुशियों के मौके पर अपनी ख्वाहिशों में से थोड़े पैसे निकाल कर अपने समाज मे मौजूद गरीब और बेसहारों की मदद नहीं कर सकते।

आप सब भी ठंडे दिमाग से एक बार जरूर सोचना ! ! ! !

अगर हो सके तो इस लेख को उन सभी सक्षम लोगो को बताना ताकि हमारी इस छोटी सी कोशिश से किसी भी सक्षम के दिल मे गरीबों के प्रति हमदर्दी का जज़्बा ही जाग जाये और यही लेख किसी भी गरीब के घर की खुशियों की वजह बन जाये।……….

Related posts:

Kaun hoon main full hindi story on Shri Guru Govind singh
लड़कियाँ इसी लिए मायके आती होंगी क्यूकि Best full hindi story
Miya Biwi ke beech subah subah jordar jhagda ho gaya
Ujjain ki kahani wo mujhe didi kehne laga
Muft ki rotiyan sad hindi story
Babu ye kya kar rahe ho full sad hindi story of a girl
नालायक बेटा जो अपने पापा का बहुत ख्याल रखता था
Jaisa karm karoge waise hi fal milega-hindi story
Us bacche ka apharan karke jeevadhari bana diya gaya
Aurtein behad ajeeb hoti hain full hindi story on woman
Jhutha Ladka
Us purani Haveli me jarur koi hai hindi bhoot ki kahani
Kashi me ek brahman ban gaya kasai full prachin hindi kahani
Tum bahot acche ho ek pyar bhari kahani thand ke mausam me
Bera (Uttar Pradesh) ki saachi ghatna raat ki chudail ki kahani
Indra ka pyar bhai behan ki kahani hindi me full story
Pair ka juuta kahan se aur kab aaya best full hindi story
Combined Hospital me Nana Rao Peshwa ji ka bhoot aya
Rishi aur Neelam ki love story
Sirf bhakti ki pyaas honi chahiye (hindi adhatmik kahani)
Ghatwaar ji ka Upkaar ek purani katha
Us sundar si Ladki ko gussa bahut aata tha full hindi story
Mera Delhi ka darwana safar aur mama ne mujhe bachaya
Naveen aur Radhika ki talaak ki kahani full story Cbrmix.com
Mere papa ki aukat best hindi story
Rahul karta tha apni behan ko tang bhai behani ki kahani
Beti bachao Beti Padhao full hindi story 1
Akhir chori hui kaise (high suspense full hindi story)
Upar wale kamre me jarur koi rehta hai hindi ghost story
Kamini ke upar usne kia vashikaran aur phir
Wo kaun thi ek sacchi bhoot pret ki kahani
Kitchen aur bathroom me koi hai (sacchi ghatna par aadharit ghost story)
Behan ko kaid se mukt karaunga bhai behan ki kahani
Beti bachao beti padhao full hindi story 2
Pizza ke aath tukde
Sasur ne ghar ko kaidkhana bana kar rakh dia (Hindi story)
भगवन पर विस्वास बनाये रखिये प्रेरक हिंदी कथा
Kuch samay apno ke liye
Maa Baap ko kabhi mat bhulna emotional hindi story
Sabse ajeeb mukadma court me (maa ke liye ladai)
Kadvi magar pyari saas ki kahani-bas baatein kadvi hoti hain
Gudiya Full hindi story
Dharti par ek pari bheji hai (full hindi story on maa)
Kisi ki majburi ka fayda kabhi na uthayen full hindi story
Seth ji ki beti ki shaadi sharabi se ho gayi (hindi rochak kahani)
Janiye Ek sher ka ghamand kaise tuuta full hindi story
Jeevan ke rang full hindi story
Biwi se itna kyu darte ho hindi story
Dusri Shaadi
Ek bhai ne likhi rula dene wali kahani apni behan par
Main tumhe ek khubsoort si afsara de raha hu prachin rochak kahani
Har Kisi ko saath ki jarurat hoti hai full hindi kahani
Main samshan ghat me behosh ho gaya tha hindi horror story
Use Naukar ki tarah na bulayen full hindi story
Sauteli maa ne kia 2 saal tak apne bete se sex
Ghatwar baba Ganga ke tatrakshak hote hain kahani Ghatwar baba ki
Atmnirbhar bano full hindi motivation story (Delhi and Goa story)
Ek aurat roti banate banate full hindi emotional story
Narayani ki Kahani Combined hospital Kanpur Cantt
Budhe Uncle aur aunty ki nok jhok full hindi love story

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *