Garibi bhi ek musibat ban gayi thi full hindi sad story

Garibi bhi ek musibat ban gayi thi full hindi sad story

उसने अभी दूध नहीं पिया था वह अभी भी  दूध का इंतज़ार कर रहा था पर क्या करे कुछ भी इंतज़ाम नहीं हो रहा था और होता भी कैसे आज उसे काम नहीं मिला था माता-पिता दोनों ही अचानक से बीमार हो गए थे ये पता नहीं था की कोनसी बीमारी उन्हें लगी हुई थी | गरीबी भी एक मुसीबत बन गयी थी बच्चा रोये जा रहा था पर आज उसे दूध नहीं मिला था आज घर में दूध खत्म हो गया था दोनों इतने बीमार थे की उठ भी नहीं पा रहे थे उनकी झोपडी भी  काफी दूर थी किसी की मदद भी नहीं ले पा रहे थे गरीब आदमी रोज कमाता है और खाता है|

Garibi bhi ek musibat ban gayi thi full hindi sad story

आज बच्चा चुप भी नहीं हो रहा था भूख से बच्चा लगा तार रोये जा रहा था बहुत हिम्मत करके बच्चे का पिता कुछ काम करने के लिए खड़ा हुआ पर आज तबियत खराब होने की वजह से वह कोई काम नहीं कर पायेगा वो जानता है की ऐसे काम नहीं चलेगा अगर काम नहीं है तो खाना भी नहीं है ऐसा सोचकर वह काम करने के लिए चल पड़ा बहुत कोशिस करने पर भी आज उसे काम नहीं मिला और वह बहुत परेशान हो गया की जब जरूरत नहीं होती है तो काम मिल ही जाता है लेकिन आज बहुत जरूरत है पर कोई काम नहीं ऐसा कब तक चलेगा पता नहीं भगवान् भी हमे भूल गया है तभी उसकी नज़र एक आदमी पर गयी उसके पास बहुत सारा समान था और वह किसी की तलाश कर रहा था की कोई उसकी मदद करे उससे भरी समान उठाया नहीं जा रहा था वह गरीब आदमी देख रहा था की वह आदमी बहुत उम्र का लग रहा है और उसके पास जाकर कहा की में आपकी कोई मदद कर सकता हु |

आज मुझे कोई काम नहीं मिला है अगर आप मुझे कुछ पैसे देंगे तो में इस समान को ले जा सकता हु उस आदमी ने हां कह दी और वह गरीब आदमी उसका समान लेकर चल पड़ा उस समान में कुछ मुर्तिया थी जोकि एक मंदिर के पास ले जानी थी वह गरीब आदमी बुखार में उन मूर्तियों को पकड़कर ले जा रहा था  

उस आदमी ने पूछा की मुझे लगता है की तुम्हरी तबियत ठीक नहीं है और तुम काम करने के लिए आ गए हो और फिर उस आदमी ने कहा की आज बच्चे को एक बोतल भी दूध नहीं मिला है और घर में कुछ नहीं है इसलिए में काम करके उसके लिए दूध लेकर जायूँगा जब तक में घर नहीं जायूँगा तब तक वह रोता रहेगा,

बातो-बातो में मंदिर भी आ गया और उस आदमी ने अपनी जेब से एक पोटली निकाली और कहा की यह पोटली घर जाकर ही खोलना आज से तुम्हारे बुरे दिन खत्म हो गए वह गरीब आदमी कुछ भी समझ नहीं पा रहा था की यह पोटली किसी लेकिन उसने बात मान ली और घर गया, घर जाकर पोटली खोली तो देखा की उसमे सवर्ण मुद्रा है लगता है यह भगवान् है जो हमारी मदद करने आये थे उस दिन से उनके बुरे दिन खत्म हो गए |

दोस्तों अगर हम अपने सच्चे मन से भगवान् को बुलाते है तो वह जरूर आते है पर आज हम भूल चुके है की हमे हमेशा दुसरो की मदद करनी चाहिए पता नहीं कौन किस तरह और कौन सी हालत में है इसलिए सबकी मदद करो और कहानी कैसी लगी हमे जरूर बताये.

 

If you like this story Please don’t forget to like our social media page –


Facebook.com/cbrmixglobal

Twitter.com/cbrmixglobal